श्री राम जन्मभूमि भव्य राम मंदिर निर्माण शंखनाद रैली अल्मोडा

दिनांक 25/11/2018 रविवार को अल्मोडा विभाग में विश्व हिंदू परिषद द्वारा अल्मोडा के रैमजी इंटर कालेज के मैदान मे आयोजित शंखनाद रैली में सन्तों ने केंद्र सरकार को राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने का आव्हान किया।
रैली का उद्दघाटन जूना अखाडा के संत ब्रह्ष्पति महाराज जी, केंद्रीय संयुक्त महामंत्री श्री वाई राघवल्लू जी, मेरठ क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री मनोज वर्मा जी, प्रान्त सह मंत्री धीरेन्द्र जी, कुमाऊँ संरक्षक श्री दीवान सिंह जी, प्रान्त मठमंदिर प्रमुख हेमंत जी, राष्टीय स्वयंसेवक संघ के संघचालक श्री किशन जी ने दीप प्रज्वलित कर किया इस मौके पर महाराज जी ने कहा कि राम मंदिर निर्माण का विरोध करने वाले राक्षसी प्रवृति के है।राम मंदिर हिंदूओ की आस्था से जुड़ा है।उच्चतम न्यायालय ने राम मंदिर निर्माण की सुनवाई को महत्व नहीं दिया गया इसलिए सन्तों का धर्मादेश यही है कि सरकार को संसद में कानून बना कर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए। इस मौके पर विहिप के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री राघवल्लू जी ने ने कहा कि जहां आतंकवादियों की सुनवाई के लिए आधी रात्री को उच्चतम न्यायालय खुल जाता है। लेकिन हिंदुओ की आस्था से जुड़ा राम मंदिर की सुनवाई के लिए न्यायालय के पास समय नहीं है।जिस से हिन्दुओ की भावनाओं को ठेस पहुँची है। इस लिए केंद्र सरकार सन्तों के धर्मादेश का पालन कर राम मंदिर निर्माण के लिए जल्द से जल्द शीतकालीन सत्र में कानून बनाये।
इस मौके पर मुख्य वक्ता विश्व हिन्दू परिषद के क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री मनोज वर्मा ने कहा राम मंदिर निर्माण को लेकर पिछले 68 वर्षों से संघर्ष जारी है। 76 बार हुए संघर्ष मे चार लाख से अधिक रामभक्तो ने अपना बलिदान दिया है। लेकिन किसी भी सरकार ने राम मंदिर के निर्माण के लिये कोई ठोस पहल नही की। केन्द्र सरकार पर संसद मे राम मंदिर बनाने के लिये बिल लाने औऱ कानून बनाने के लिये दवाब बनाया जायेगा। ताकि शीघ्र से शीघ्र राम मंदिर का निर्माण अयोध्या मे कराया जा सके। अब राम भक्तो के सब्र का बाँध टूट चुका है। कार्यक्रम मे जिला अध्यक्ष श्री मंगल जी ने अधिकारियों एवं रामभक्तो का धन्यवाद किया। कार्यक्रम मे योगेश नयाल जी, मुकेश जी, गणेश जी, कमलेश जी, राजेन्द्र संगठन मंत्री एवं विहिप एकलअभियान ,बजरंगदल के अलावा अन्य हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता 600 से अधिक रामभक्त उपस्थित रहे।

Back To Top