भगवान वाल्मीकि जयंती

मुजफ्फरनगर। विश्व हिंदू परिषद के सामाजिक समरसता अभियान के अंतर्गत के अवसर पर विचार गोष्ठी में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री माननीय विनायक राव देशपांडे ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि पूरे हिंदू समाज के संत हैं, उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि हम उन भाईयों के साथ बैठने से कतराते​है जो हिंदू धर्म के रक्षक है, धर्म योद्धा हैं, जिन्होंने हिंदू धर्म की रक्षार्थ घृणित कार्य करना स्वीकार किया किंतु हिंदू धर्म नहीं छोड़ा। १२वींशती से पूर्व कहीं भी भंगी शब्द कार्य उल्लेख नहीं मिलता,१८००वर्ष पूर्व कहीं भी चमडे के जूते पहनने का जिक्र नहीं है।उन्होने यह भी कहा विहिप चाहता है कि मंदिर,कूए, श्मशान घाट समस्त हिंदू​ओं के लिए समान हों।प्रान्त सह संगठन मंत्री सुदर्शन चक्र जी महाराज व प्राप्त सह मन्त्री डॉ चंद्रमोहन शर्मा ने भी विचार रखे। अध्यक्षता समाजसेवी श्री सुधीर खटीक ने की।प्रान्त समरसता प्रमुख वीरेंद्र दावसे,प्राप्त सह सम्पर्क प्रमुख राधेश्याम विश्वकर्मा, विभाग सह मंत्री भूपेंद्र सिंह,जि.अ.सचिन सिंहल, कार्यअ.अमित गुप्ता, प्रदीप त्यागी,वि, सं, मंत्री देवेंद्र जि, संगठन, मंत्री मनीष अंकुर, विकास, अतुल, मोहित, चिराग आदि उपस्थित थे

Back To Top