सेवाकुंभ देवगिरी प्रांत – मुंबई क्षेत्र

विश्व हिंदू परिषद की सेवाकुंभ की शृंखला में मुंबई क्षेत्र से देवगिरी प्रांत का सेवाकुंभ दि. २ फरवरी २०२० को भुसावल शहर में संपन्न हुआ। विश्व हिंदू परिषद के सेवाविभाग के अखिल भारतीय प्रमुख मा. श्री. नंदलाल लोहिया जी प्रमुख मार्गदर्शक के रूप में उपस्थित थे।  इस के अलावा मुंबई क्षेत्र के सेवाप्रमुख मा. श्री. भार्गव सरपोतदारजी, प्रांत संघटन मंत्री श्री.अभिजीतजी हरकरे, प्रांत सहमंत्री श्री.रामदासजी लहाबर प्रांत सेवा प्रमुख प्रा.श्री.राजाराम माली जी, सहसेवाप्रमुख श्री. संतोषजी कुलकर्णी, सेवा प्रकल्पोंके पदाधिकारी, प्रांत और जिला के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता सेवाकुंभ में सम्मिलित थे।  जिला के अध्यक्ष मा. श्री. श्रीकांत लाहोटी जी ने स्वागताध्यक्ष की कमान सम्हाली।
उद्घाटन सत्र के विशेष अतिथी के रूप में नंदूरबार की सुप्रसिद्ध भूलतज्ञ मा. डॉ. सौ. जयाताई दिघे जी तथा आशिर्वचन देने हेतु पूज्य साध्वी जिग्नेशा देवी जी इन की उपस्थिती विशेष रहीI  प्रास्ताविक भाषण में प्रांत के सेवाप्रमुख श्री. राजाराम माली जी ने बताया की आज देशभर में छोटे-मोटे मिलकर कुल एक लाख सत्तासी हजार से भी अधिक सेवाकार्य चल रहे हैं तथा देवगिरी प्रांत में पचास स्थानोंपर सेवा कार्य चलता है।  साध्वी जी ने बताया कि विश्व हिंदू परिषद यह आर्य धर्म जागृत करनेका साधन है।
इस सेवा कुंभ में प्रांत के विभिन्न छात्रावास तथा एकल विद्यालय के ६० से अधिक विद्यार्थी तथा सेवाक्षेत्र में काम करनेवाले विश्व हिंदू परिषद के ४० कार्यकर्ता सहभागी हुए।  इस कार्यक्रम में जिले में विविध रूप से समाजसेवा में जुडे हुए करीब ३० व्यक्ती सम्मानित किये गए।  छात्रावास तथा एकल विद्यालायों से आये छात्रोंनें सांस्कृतिक कार्यक्रमों का अच्छा प्रदर्शन किया।
समापन कार्यक्रम के प्रमुख अतिथी थे संभाजीनगर के प्रसिद्ध उद्योजक मा. श्री. श्रीनिवास राठी जी, तथा आशीर्वचन हेतु ह.भ.प. श्री. उद्धवजी महाराज और पूज्य पुरुषोत्तमदासजी महाराज पधारे थे।  उन्होंने बताया कि हिंदू समाज एकजूट होना आवश्यक है तथा परकीय धर्म के प्रचारक जो धर्मांतर के षडयंत्र चला रहे हैं उस का शिकार नहीं होना चाहिये।  मा. नंदलालजी ने बताया कि आगामी तीन सालोंमे हिंदुस्थान के एक लाख गावोंमे सेवा कार्य शुरू करनेका संकल्प विश्व हिंदू परिषद ने किया है।

 

Back To Top