स्वर्गीय श्री अशोक सिंघल रुग्ण सेवा सदन वर्धापन दिन

शिव कल्याण केंद्र सायन १७ नव्हेम्बर २०१९ – मुंबई शहर देश की आर्थिक राजधानी होने के साथ एक अंतर राष्ट्रिय उपचार केंद्र भी है | सस्ते और बेहतरीन उपचारो के लिए  विदोशो से तथा देश के विविध कोनो से गरीब रुग्ण उपचार करने के लिए मुंबई शहर में आते है | महानगर में गिने चुने केंसर के अपस्ताल, बढ़ते रुग्ण और मेहेंगे उपचार के चलते रुग्णों को अनेक अड्चनो का सामना करना पड़ता है | केंसर का इलाज करने वाला हिन्दुस्थान का सबसे बड़ा टाटा अस्पताल सायन के हनुमान टेकडी से नजदीक है, इस लिए नाना पालकर सेवा सदन जैसा केंसर रुग्णों के सेवा देने वाला रुग्ण सेवा सदन सायन के हनुमान टेकडी पर बनाया जाये ऐसी इच्छा विश्व हिन्दू परिषद् के दिवंगत अध्यक्ष श्री अशोक सिंघल जी ने कई साल पहले सायन के हनुमान टेकडी सेवा प्रकल्प को भेट देते समय व्यक्त की थी | उन्ही के स्मरणार्थ रुग्ण सेवा सदन को स्वर्गीय श्री अशोक सिंघल का नाम दिया गया |

“श्री अशोक सिंघल रुग्ण सेवा सदन” यह विश्व हिंदू परिषद के शिव कल्याण केंद्र द्वारा संचालित एक उपक्रम है | देश के विविध भागो से कैंसर के उपचार के लिए आए कैंसर के रुग्णों को यह संस्था मुफ्त में निवास तथा भोजन की सेवा उपलब्ध कराती है | तथा रुग्ण के साथ आये उनके  १ या २  सहयोगी यो  को भी रूपये ५० /- प्रति दिन के नाम मात्र शुक्ल में सेवा उपलब्ध कराती है | रुग्ण सहायता के लिए संस्था नाम मात्र शुल्क में एम्ब्युलंस सेवा भी उपलब्ध कराती है | साथ ही शिव कल्याण केंद्र द्वारा कंप्यूटर क्लास, सिलाई क्लास , बाल संस्कार केंद्र इत्यादि चलाया जाता है | आगामी उपक्रम में  श्री अशोक सिंघल रुग्ण सेवा सदन २०० बेड्स का अद्ययावत सुविधावाला रुग्ण सेवा सदन की निर्मिती करने का काम प्रगती पथ है |

श्री अशोक सिंघल रुग्ण सेवा सदन के द्वितीय वर्धापन दिवस के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था | जिस मे तपस्या क्लासिकल म्युसिक एंड डांस अकादमी द्वारा “नमो नामो भारताम्बे” (भारत माता वंदन), नवा दुर्गा और श्री अशोक सिंघल रुग्ण सेवा सदन का द्वितीय वर्धापन दिवस के समारोह के लिए विशेष तौर पर तैयार किया गया | सेवा विषय पर आधारित, महाराष्ट्र की जेष्ठ समाज सेविका श्रीमती सिन्धु ताई सकपाळ जी के जीवनी पर १ विशेष नृत्य नाटिका पस्तुत की | तपस्या अकादमी के गुरु श्रीमती मानसी नायर द्वारा दिग्दर्शित सेवा विषय की महती बताने वाली इस नृत्य नाटिका ने सभी उपस्थितो को मंत्र मुग्ध कर दिया | इस नृत्य नाटिका में  छोटी सिन्धु ताई की भूमिका करने वाली स्वर्णा ने उपस्थितोंका मन मोह लिया |

वर्धापन दिवस के कार्यक्रम में मुख्य वक्ता थे विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय महामंत्री श्री मिलिंद परांडे, प्रमुख अतिथि थे जानेमाने समाज सेवक एवं प्रसिद्ध उद्योगपति पद्मश्री श्री रामेश्वरलाल काबरा एवं मुख्य अतिथि थे श्री हरि सत्संग समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सत्यनारायण काबरा, घाटकोपर स्थित बालाजी मंदिर के श्री श्री १००८ जगद्गुरु रामानुजाचार्य श्री स्वामी धरणीधराधर आचार्य जी महाराज इस कार्यक्रम में अपना आशीर्वचन प्रस्तुत किया | तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कोकण प्रांत के प्रांत संघचालक डॉ श्री सतीश मोढ इस कार्यक्रम के लिए विशेष उपस्थित थे |

Back To Top