झारखंड प्रांत दुर्गा वाहिनी शौर्य प्रशिक्षण एवं मातृशक्ति शिक्षा वर्ग

राँची 6 जून,2018 – विश्व हिंदू परिषद झारखंड के दुर्गा वाहिनी शौर्य प्रशिक्षण एवं मातृशक्ति शिक्षा वर्ग का समापन समारोह आज दिनांक 6 जून,2018 को संध्या 5:00 बजे धुर्वा, राँची स्थित सरस्वती शिशु/विद्या मंदिर में किया गया। इस अवसर पर दुर्गा वाहिनी के प्रशिक्षण वर्ग में सम्मिलित सभी बहनों ने वर्ग में सिखे शारीरिक प्रदर्शन प्रस्तुत किए। सर्वप्रथम मंचासीन पदाधिकारियों ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता क्षेत्र मंत्री वीरेंद्र विमल ने कहा हमारा देश, धर्म, संस्कृति पर सैकड़ों वर्षो से प्रहार होता रहा। कई आतायियों ने देश की अखंडता को मिटाना चाहा, परंतु आज भी भारत विश्व गुरु के रूप में अडिग खड़ा है। उन्होंने कहा विश्व मंच पर हिंदू ,हिंदुत्व व हिंदू राष्ट्र की कल्पना सदैव रही है ।भारत का भाग्य विधाता हिंदू है ।आज कई प्रांतों में हिंदू अल्पसंख्यक हो गया है परंतु अल्पसंख्यक के श्रेणी में कोई और लाभ उठा रहा है ।उन्होंने कहा हमारे देश में पाश्चात्य ईसाई और मुस्लिम संस्कृति इस देश को सौंपी गई है, इसे हमें ठीक करना होगा ।उन्होंने कहा आज समाज में घुसपैठिए व धर्मांतरण की गतिविधियां तेजी से भी चलाया जा रहा है, हमें सचेत रहने की आवश्यकता है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉक्टर आशापुष्प ने कहा मां, मातृभूमि, गो ,व गंगा स्वर्ग से भी महान है ।उन्होंने कहा जहां मातृत्व का पूजा होती है वहाँ देवताओं का जन्म होता है। जननी का सम्मान ऋषि- मुनियों, साधु- संतों ने भी किया है तथा शक्ति के रूप में पूजन किया है। हिंदूधर्म धर्म नहीं अपितु जीवन शैली है ।हिंदू धर्म सभी को साथ लेकर सुखी पूर्वक जीवन जीने का कामना करता है ।हमारा जलचर थलचर सभी पर्यावरण के वाहक हैं जिनका संरक्षण आवश्यक है। उन्होंने कहा मां सदैव देती है, मांगती नहीं, सदैव दूसरों की सुख संपदा के लिए ही जीती है, वह कभी हार नहीं मानती ।उन्होंने कहा दुर्गा वाहिनी के बहनों अपने सेवा, सुरक्षा व संस्कार को आत्मसात करते हुए देश, धर्म व संस्कृति के रक्षार्थ झांसी की रानी बनो। दुर्गादेवी बनो।
इस अवसर पर वर्ग अधिकारी डॉक्टर भारती रायपत वर्ग की प्रस्तावना प्रस्तुत करते हुए कहा कि हमारी साधना से सिद्धि तक जाने की एक लंबी डगर है ।मानव के उत्पत्ति के साथ ही सनातन धर्म का विस्तार हुआ। हम उसी के अनुयाई हैं।
मातृशक्ति प्रमुख शीला त्रिपाठी ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन मातृशक्ति सह प्रमुख दीपा रानी कुंज ने तथा दुर्गा वाहिनी संयोजिका अनुराधा देवी ने धन्यवाद ज्ञापन किया।
इस अवसर पर प्रांत उपाध्यक्ष सुभाष नेत्र गावंकर, प्रांत उपाध्यक्ष चंद्रकांत रायपत, प्रांत मंत्री डॉ वीरेंद्र साहू, प्रांत संत संपर्क प्रमुख कृष्ण चैतन्य ब्रह्मचारी, प्रांत सहमंत्री मनोज पोद्दार, प्रांत संगठन मंत्री अकारपु केशव राजु, अजय अग्रवाल, पारसनाथ मिश्रा, अशोक अग्रवाल, सुशील कुमार,, सौम्या मिश्रा, उषा पांडे, प्रतिभा पांडे, वीना मिश्रा, मंजू सिंह, रवि शंकर राय, रोहित सिंह परमार, अरुण सिंह, फुल कुमारी, नंद किशोर अग्रवाल ,जुगल किशोर प्रसाद, ललन कुमार, सुनील कुमार, जितेंद्र तिवारी, अमर प्रसाद, गोपाल पारीक, महावीर सिंह, सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे। वर्ग में 18 जिला के 126 बहनों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

Back To Top